Latest News

गुरुवार, 12 मार्च 2015

मनमोहन के समर्थन में नेताओं संग सोनिया ने किया मार्च

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पार्टी के दूसरे बड़े नेताओं ने कोयला घोटाले में आरोपी के तौर पर समन किए गए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के प्रति समर्थन जताने के लिए पार्टी मुख्यालय से उनके घर तक मार्च किया। सीबीआई स्पेशल कोर्ट ने एक दिन पहले ही मनमोनहन सिंह समेत छह लोगों को आरोपी के तौर पर समन भेजकर 8 अप्रैल को पेश होने के लिए कहा है।
सूत्रों का कहना है सोनिया गांधी इस मार्च के जरिए यह संदेश देना चाहती हैं कि पार्टी मनमोहन सिंह के साथ मजबूती से खड़ी है। मनमोहन सिंह के घर के बाहर सोनिया गांधी ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री निर्दोष हैं और उनकी ईमानदारी शंका से परे हैं। उन्होंने कहा कि हम यहां यह जताने के लिए आए हैं कि पूरी पार्टी उनके साथ है। राज्यसभा में कांग्रेस के उपनेता आनंद शर्मा ने कहा कि मनमोहन सिंह की पारदर्शिता, निष्पक्षता और ईमानदारी पर कोई सवाल नहीं उठा सकता है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी मजबूती से मनमोहन सिंह के साथ है और किसी भी हाल में नहीं झुकेगी। मनमोहन सिंह ने हाथ जोड़कर घर पहुंचे नेताओं का स्वागत किया लेकिन कुछ नहीं बोले। पिछले कुछ दिनों से वायरल फीवर से पीड़ित सोनिया संसद की कार्यवाही में भी भाग नहीं ले रही थीं। पर आज मार्च के बाद वह मनमोहन सिंह से मिली भीं। राहुल गांधी भी इस सप्ताह के अंत तक छुट्टी से लौटने वाले हैं। कांग्रेस ने पूर्व प्रधानमंत्री का हर हाल में बचाव करने का फैसला लिया है। कांग्रेस का मानना है कि मनमोहन सिंह ने कोयला ब्लॉक आवंटन में जो कुछ भी किया वह सही था और उनकी ईमानदारी और निष्पक्षता पर शक नहीं किया जा सकता। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आज सुबह एक अहम बैठक भी बुलाई, जिसमें पार्टी कार्यसमिति के सभी सदस्य, सांसद और दोनों सदनों के नेताओं ने हिस्सा लिया। हालांकि मनमोहन सिंह इस बैठक में मौजूद नहीं थे। गौरतलब है कि मनमोहन सिंह कांग्रेस पार्टी के तीसरे प्रधानमंत्री हैं, जिनके हाथ में घोटाले की कालिख लग गई है। ऐसे में कांग्रेस की साख दांव पर लगी है। इससे पहले राजीव गांधी और नरसिम्हा राव का नाम भी घोटालों में आ चुका है। इन दोनों को भी पद से उतरने के बाद अदालती कार्यवाही का सामना करना पड़ा था।

(IMNB)

Advertisement

Political News

Crime News

Kanpur News


Created By :- KT Vision