Latest News

सोमवार, 8 अक्तूबर 2018

मोदी जी, हरदोई जिले के इन ग्रामीणों के अच्‍छे दिन कब आयेंगे ?

हरदोई 08 अक्टूबर 2018. जहाँ एक तरफ़ भाजपा सरकार अपनी तमाम योजनाओं से गरीबों को लाभ देना चाहती है, वहीं दूसरी तरफ जिले के कुछ अधिकारियों व प्रधानों की गलत मानसिकता के चलते गरीबों तक किसी भी योजना का लाभ नहीं पहुँच पा रहा है। सही मायने में देखा जाऐ तो यहां कुछ गांव ऐसे हैं जिनको यह भी नहीं मालूम कि सरकार ने कितनी योजनाएं निकाली हैं।


सूत्रों के अनुसार भरखनी ब्लाक की ग्राम पंचायत भावपुर सपाह की मजरा द्वारनगला, घनूनगला, पकड़न की मढिया आदि में प्रधान की गलत मानसिकता के चलते  भाजपा सरकार की योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है। आज भी महिलायें खुले में शौच करने को मजबूर हैं। यहां सफाई कर्मी कभी भी  सफाई करने नहीं आता है। आज कुछ ग्रामीणों ने पत्रकारों को अपनी परेशानियों से अवगत कराया -

द्वारनगला निवासी मुन्नी देवी पत्नी बृजमोहन बताती हैं कि - मेरे गांव में सफ़ाई कर्मी कभी भी सफ़ाई करने नहीं आता। प्रधान ने आज तक कोई भी दवा का छिडकाव नहीं कराया, जिसके चलते गांव में बीमारियां बनी रहती हैं। पूरा गांव खुले में शौंच के लिए जाता है। बरसात में तो शौंच करने में भी बहुत परेशानी होती थी। क्यों कि हर जगह पानी भरा हुआ था। न ही मेरे गांव में आवास बनवाऐ गए, यहां तक की स्वच्छता के लिए कोई काम किया गया। न ही अयुष्मान योजना के तहत किसी का आवेदन लिया गया। मेरे पति की उम्र 60 वर्ष से ऊपर है। लेकिन उनको वृद्धावस्था की पेंशन आज तक नहीं मिली। इस गांव में वृद्धावस्था पेंशन, विधवा पेंशन आदि योजनाओं का लाभ किसी को नहीं मिल रहा है। यहां तक मेरा राशन कार्ड भी आज तक नहीं बना है।

घनूनगला निवासी धर्मवीर बताते हैं कि - मेरी ग्राम पंचायत हरदोई व शाहजहांपुर की सीमा पर है इसलिये यहां कोई भी विकास नहीं होता। हम लोगों ने भाजपा को इसलिये वोट दिया था कि सरकार बनने के बाद हमारे गांव का विकास होगा। लेकिन वह हम लोगों की भूल थी, जो अब  समझ में आ रही है। हमारे क्षेत्र में बहुत जंगली गाय हैं जो फसल को नहीं होने देती और एक प्रधान है जो गांव मे विकास कराना नहीं चाहते। इस गांव में न तो शौचालय है, न ही आवास और न ही विधवा पेंशन, वृद्धावस्था पेंशन, आयुष्मान जैसी कोई भी योजना का लाभ। स्वच्छता तो इस गांव में होकर नहीं गुजरी, सफ़ाई कागजों मे होती है। महिलाओं को खुले में शौच जाना पडता है। गांव का तो विकास नहीं हुआ हाँ सेक्रेटरी और प्रधान का विकास इस सरकार में जरुर हो गया।

आक्राशित ग्रामीणों का कहना है कि हर जगह चौपालें लगती हैं नेता आते हैं अधिकारीगण आते हैं। योजनाओं का लाभ मिलता है। इस क्षेत्र मे न तो नेता आते है न ही अधिकारीगण चौपाले अधिकारीगणों की कैसी लगती है यह हम लोग जानते भी नहीं हरदोई जिले की सबसे पिछडी ग्राम पंचायत है। हमें किसी भी सरकारी योजना का लाभ इस क्षेत्र में नहीं मिलता है। इससे साफ जाहिर होता है कि हरदोई जिले का यह गांव सबसे पीछे है।


(हरदोई से विनय बाजपेई की रिपोर्ट)




 

Special News

Health News

Advertisement


Political News

Crime News

Kanpur News


Created By :- KT Vision