Latest News

सोमवार, 24 अक्तूबर 2016

ऑनलाइन परीक्षाओं में धोखाधडी करने वाले गिरोह के 10 सदस्य गिरफ्तार

कानपुर 24 अक्‍टूबर 2016 (हरिओम गुप्‍ता). एसटीएफ उ0प्र0 को कानपुर से राष्ट्रीय स्तर पर ऑनलाइन परीक्षा में धांधली करने वाले गैंग के दस सदस्यों को गिरफ्तार करने में सफलता मिली है। पुलिस महानिदेशक उ0प्र0 द्वारा एसटीएफ टीम के उत्साहवर्धन हेतु 50 हजार रूपये का पुरस्कार देने की भी घोषणा की गयी.

रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड की परीक्षा के दौरान एसटीएफ की इलाहाबाद इकाई ने संयोगिता इंस्टीटयूट आफ मैनेजमेन्ट एंड टैक्नॉलोजी इलाहाबाद में परीक्षा दे रहे परीक्षार्थियों को लाभ पहुंचाने के लिए दूरस्थ बैठे सॉल्वर गैंग को पकडा था जिनके पूछताछ में पता चला कि आनलाइन परीक्षा प्रणाली की शुचिता में सेंध लगाते हुए परीक्षार्थी के कम्प्यूटर नोड की रिमोट एक्सेस कर प्राप्त कर ली जाती है तथा परीक्षार्थी के बजाये स्वयं साल्वर प्रश्नोत्तर दे देता है, जिसके एवज में लाभार्थी से मोटी रकम प्राप्त होती है। इसके बाद एसटीएफ टीम द्वारा लगातार लखनऊ, उन्नाव व कानपुर में इस गिरोह के सदस्यों की पहचान तथा उनके अड्डों को चिन्हित किया गया तथा सूचना के अाधार पर कानपुर से इस गिरोह के दस लोगों को गिरफ्तार कर किया गया। 

पकडे गये एक अभियुक्त ने बताया कि उसने कानपुर विश्वविधालय से बीटेक किया है तथा वह एक कुशल सॉल्वर है जो बीते 8 सालों से यह काम करता आ रहा है तथा अपने गिरोह के अन्य सदस्यों के साथ मिलकर ऑनलाइन परीक्षा में धांधली करता है। उसने बताया कि यह कार्य वे लोग तीन तरीकों से करते हैं, पहले में फोटो बदलते हैं और पेपर देते हैं। दूसरी प्रक्रिया में परीक्षा केन्द्र और ओटीपी कर्मी से सांठगांठ कर लाभार्थी के कम्प्यूटर पर इन्टरनेट ऑन कराकर रिमॉट एक्सेस सॉफ्टवेयर द्वारा उसकी स्क्रीन प्राप्त कर दूर बैठकर प्रश्न पत्र हल कर देते हैं तथा तीसरे में वे लोग परीक्षा केन्द्र और ओटीपी प्रतिनिधि‍ को अपने साथ मिलाकर ओटीपी के सर्वर लेपटॉप को रिमॉट एक्सेस से लेकर प्रश्रपत्र कॉपी कर लेते हैं और लाभार्थी परीक्षार्थियों तक पहुंचाते हैं।

अभियुक्‍त ने बताया कि उन लोगों ने बडे पैमाने पर इलाहाबाद, गोरखपुर, गोण्डा, उन्नाव, कानपुर, मुरादाबाद, रूडकी व देहरादून आदि बहुत से स्थानों पर ऐसे परीक्षा केन्द्रों के व्यवस्थापकों, लैब असिस्टैंट व इनविजीलेटर्स को प्रति परीक्षार्थी एक निश्चित धनराशि देने का आश्वासन देकर अपने गिरोह में मिला रखा है। पुलिस महानिदेशक उ0प्र0 द्वारा एसटीएफ टीम के उत्साहवर्धन हेतु 50 हजार का पुरस्कार देने की घोषणा की गयी। 

पकडे गये अभियुक्त व बरामदगी - 
इस धोखाधडी के धंधे में लिप्त पाये गये अभियुक्तों में कृष्णन प्रसन्ना उर्फ केपी पुत्र नागराजन निवासी आर्य नगर, रविकान्त वर्मा निवासी ग्राम पतारी थाना बकेवर जिला फतेहपुर हालिया मिल्लतनगर नौबस्ता, रूपेश कुमार शर्मा शकरपुर नई दिल्ली, अलोक प्रताप सिंह खलनपुर विकासनगर थाना कल्याणपुर कानपुर, रवीन्द्र प्रताप सिंह फतेहपुर, अभिषेक कुमार केशवनगर नौबस्ता, अंकुर कुमार ग्राम पीताम्बरपुर कानपुर देहात, सुनील कुमार ग्राम रेवसा जिला सीतापुर, कमल प्रकाश शर्मा ग्राम अरोल थाना बिल्हौर तथा रजत सचान उमरी थाना घाटमपुर को गिरफ्तार किया गया। इन अभियुक्तों के पास से 19 मोबाइल फोन, 4 चार पहिया वाहन, 5 लेपटॉप, डैस्क टॉप, 3 हार्ड डिस्क, 2 राउटर, 13 ड्राइविंग लाइसेंस, 14 आधार कार्ड, 33 पैन कार्ड, 289 निर्वाचन कार्ड, 23 बैंक खातों की पास बुक, चैकबुक, एटीएफ कार्ड, 200 शैक्षिक प्रमाण पत्र, 32 अन्य प्रवेश पत्र आदि सहित नगद लगभग साढे नौ लाख रूपया बरामद किया गया। अभियुक्तों को निरीक्षक पीके मिश्रा, निरीक्षक राजेश त्रिपाठी, उ0नि0 हेमन्त सिंह, उ0नि0 विमल गौतम व टीम के अन्य सदस्यों ने गिरफ्तार किया।

Special News

Health News

Advertisement


Political News

Crime News

Kanpur News


Created By :- KT Vision