Latest News

गुरुवार, 12 मई 2016

शाहजहाँपुर - डीएम ने दिये बिजली बकायदारों के खिलाफ मुकदमा लिखने के निर्देश

शाहजहाँपुर 12 मई (ब्यूरो कार्यालय). जिलाधिकारी विजय किरन आनन्द ने आज विद्युत विभाग के कार्यो की कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में प्रगति समीक्षा बैठक की। डीएम द्वारा गत बैठक में फीडर वार अवर अभियन्ताओं, उपखण्ड अधिकारियों को लक्ष्य दिया जा चुका था फिर भी बिजली विभाग द्वारा कार्य में तेजी नहीं लाई जा रही है। उन्होंने निर्देश दिये कि जिले के सभी 41 विद्युत सब स्टेशनों के अन्तर्गत आने वाले सभी बड़े बकायेदारों पर सख्‍ती की जाये।
बकायेदारों द्वारा विद्युत बिल जमा न करने पर 25-25 बकायेदारों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज कराये एवं सम्बन्धितों की  आर.सी. जारी करते हुए तहसीलों को भेजे। उनसे बकाया वसूल किया जायेगा। जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि प्रत्येक अवर अभियन्ता अपने-अपने क्षेत्र में कम से कम 200 विद्युत विच्छेदन, 200 लोड बढ़ाने एवं 200 नये कनेक्शन देने का कार्य करें। यही उनको इस माह का लक्ष्य दिया जाता है। इससे कम किसी जेई व एसडीओ द्वारा कार्य किया गया तो उसके विरूद्ध कार्यवाही होगी। जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिये कि विद्युत विभाग द्वारा जो कार्य किया जा रहा है। यदि कोई उपभोक्ता, व्यक्ति कार्य में व्यवधान, मारपीट, झगड़ा करें तो हमें तुरन्त बतायें। सम्बन्धितों के विरूद्ध कड़ी वैधानिक कार्यवाही करते हुए एफआईआर दर्ज करा दी जायेगी।

जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि कामर्शियल कनेक्शन की चैकिंग अनिवार्य रूप से करें। उन्होंने कहा कि नगरों के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी विद्युत भार बढ़ायें क्योंकि बहुत से लोगों के घरों पर कूलर, फ्रिज, पंखे, वासिंग मशीन, वाटरपम्प आदि आधुनिक उपकरण भी हो गये हैं। जिनका लोग धडल्‍ले से प्रयोग करते हैं। जिलाधिकारी ने यह भी कहा कि जिस सब स्टेशन एवं फीडर से विद्युत सप्लाई का उपभोग अधिक हुआ और आपूर्ति हुई विद्युत की वसूली दर कम मिली तो यह माना जायेगा कि सम्बन्घित क्षेत्र के जेई की बिजली चोरी में संलिप्तता है। उन्होंने कहा कि जब भी छापामार कार्यवाही करें तो वीडियोग्राफी अवश्य करायें। जिलाधिकारी ने कहा कि जिले में 15 मिलियन यूनिट का उपभोग है। किन्तु वसूली जितनी हुई है वह 3 रूपये प्रति यूनिट की दर से ही पड़ती है, जिससे सरकार को घाटा उठाना पड़ रहा है।

Special News

Health News

Advertisement


Created By :- KT Vision