Latest News

सोमवार, 11 अप्रैल 2016

शाहजहाँपुर - हाईवे पर जाम लगा रही भीड़ पर पुलिस ने किया लाठी चार्ज, एक दर्जन घायल

शाहजहाँपुर 11 मार्च 2016 (ब्यूरो कार्यालय). अल्हागंज - फरूखाबाद बाईपास मार्ग पर सड़क दुर्घटना में मरी बालिका की लाश सड़क पर रखकर न्याय माँग रही भीड़ पर पुलिस ने आज बर्बरता पूर्वक लाठी चार्ज किया। इतना ही नहीं लाश छोडकर भाग रही भीड़ की सीओ तथा एसडीएम ने स्‍वयं उनके घर तक पिटाई की जिससे करीब एक दर्जन महिलायें तथा पुरूष चोटिल हो गये। भीड़ का आरोप है कि लाठी चार्ज कर रही पुलिस के साथ एक पत्रकार भी  लागों को पीटने में शामिल था ।

प्राप्त हुई जानकारी के अनुसार नगर के मोहल्ला बगिया निवासी  शिवरतन की अठारह वर्षीय पुत्री अंगूरी अपने छोटे भाई आनंद के साथ साईकिल पर बैठकर अपने पिता के लिए खेत पर खाना ले जा रही थी। तभी गुरूदास पुर की तरफ से आ रहे ट्रैक्‍टर ने उसे टक्कर मार दी। जिसकी वजह से अंगूरी की मौके पर ही मृत्‍यु हो गई और उसका भाई भी घायल हो गया। मृतक बालिका का भाई घटना की तहरीर लेकर थाने पर गया । तहरीर में ट्रैक्‍टर मालिक नीरज निवासी विशौली (हरदोई) का नाम भी दर्ज था। आरोप है कि एक दलाल की शह पर पुलिस घटना की रिपोर्ट लिखने में टालमटोल करने लगी। जिससे रिपोर्ट लिखाने आये लोग नाराज होकर वापस चले गये। और हाईवे पर लाश को रखकर जाम लगा दिया। मौके पर पुलिस भी  पहुंची एसओ धर्मेन्द्र सिंह ने भीड़ से जाम हटाने को कहा लेकिन मृतका के परिवार वालों का कहना था कि पहले घटना की रिपोर्ट दर्ज करो। बाद में जाम हटेगा । सूत्रों के अनुसार बवाल के बाद पुलिस ने रिपोर्ट तो दर्ज की लेकिन अपने ढंग से । आरोप है कि रिपोर्ट में  ट्रैक्‍टर मालिक का नाम नहीं था। इसके बाद बात बिगडती चली गई, एसओ ने घटना की सूचना सीओ आदेश त्यागी व एसडीएम वंदना त्रिवेदी को दे दी । इसके बाद अचानक पुलिस ने उग्र तेवर दिखाने शुरू कर दिये। लाश की छीना झपटी शुरू कर दी और पुलिस बल ने सीओ, एसओ, एसडीएम के नेतृत्व में जनता पर लाठीचार्ज शुरू  कर दिया लोगों को खेत व घरों तक दौडा दौडा कर पीटा गया जिसमें औरतों को भी लाठियों से इतना पीटा की उनके कपड़े फट गये। इसी बीच पुलिस ने सड़क से लाश को घसीटते हुए वाहन में रख्खा और जल्दबाजी दिखाते हुए पोस्‍टमार्टम को भेज दिया।


पुलिस की बर्वरता पूर्व लाठी चार्ज को विधानसभा में उठाया जायेगा -
बसपा विधायक नीरज मौर्य मौके पर आये और लाठी चार्ज में घायल हुए महादेव, द्वारिका, शिवरतन, राजकुमार, मंजू, राजवीर, लेखराज, मीना आदि ने अपनी चोटें विधायक जी को दिखाई। मृतक बालिका की माँ मीना ने बताया की पुलिस ने उन्हें बेतहाशा पीटा और उनके कान के कुंडल खींच लिए व कपड़े भी  फाड दिये गये यहाँ तक की लाश पर के भी कुन्डल गायब कर दिये गये। विधायक ने सभी  घायलों को इलाज के लिए जलालाबाद पहुंचने के लिए कहा साथ ही डाक्टर को भी  फोन कर दिया। विधायक ने घायलों को अाश्‍वासन दिया कि घटना को कोर्ट में दाखिल किया जायेगा और पुलिस को मुल्जिम बनाया जायेगा।
घटना की जानकारी पा कर नगर पंचायत चेयरमैन चन्द्रेश गुप्ता भी  मौके पर पहुंची तो पुलिस लाठी चार्ज में  घायल महिलाओं ने अपने फटे कपड़े और शरीर पर पड़े बेंतो के निशान दिखाये। महिलाओं ने उन्हें ये भी  बताया कि पुलिस के साथ एक तथाकथित पत्रकार ने भी  उन पर डंडे चलाये थे। महिलाओं की शिकायत पर चेयरमैन ने उक्‍त पत्रकार को लताड़ लगाई। इसके बाद भी  भीड़ का गुस्सा  पत्रकार के प्रति ठन्डा नहीं हुआ। भीड़ का कहना था कि अब वो न्‍याय मिलने तक लाश का अन्तिम संस्कार भी नहीं करेंगे।  दूसरी तरफ भाजपा सांसद प्रतिनिधी पवन गुप्ता ने भी  घायलों से घटना की जानकारी ली।

Special News

Health News

Advertisement


Created By :- KT Vision