Latest News

मंगलवार, 12 जनवरी 2016

जोगी समर्थकों पर फैसला - 6 साल के लिए पार्टी से निकाला, जोगी समर्थकों में नाराजगी

छत्तीसगढ़ 12 जनवरी 2016. रायपुर। पूर्व मुख्यमंत्री अजित जोगी समर्थकों की जिला कांग्रेस भवन में हुई बैठक के बाद शहर कांग्रेस कमेटी की बैठक शुक्रवार को हुई। बैठक में शहर कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष आरएन वर्मा एवं दुर्ग जिला ग्रामीण कांग्रेस अध्यक्ष हेमन्त बंजारे सहित अन्य उपस्थित थे। सर्व-सम्मति से प्रस्ताव पारित
प्रदेश कांग्रेस कमेटी के निर्णय के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों को पार्टी से छह साल के लिए निष्कासन का प्रस्ताव रखा। बैठक में प्रस्ताव बंजारे और वर्मा ने रखा जिसे सर्व सम्मति से पारित किया गया।

निष्कासन का विरोध करने वाले 14 हटाए गए -
जिला कांग्रेस की बैठक में निष्कासन का विरोध करने वाले 14 कार्यकर्ताओं को भी पार्टी से छह साल के निष्कासन किया गया है। इनमें लोकसभा युकां-अध्यक्ष जहीर खान, शहर युकां-अध्यक्ष विवेक मिश्रा, कांग्रेस नेता ध्रुव कुमार सोनी, अहिवारा अध्यक्ष भुवन साहू, सतनामी युवा समाज अध्यक्ष राहुल लहरे, एनएसयूआई के पूर्व जिला अध्यक्ष शहीद खान सहित कुल 14 कार्यकर्ता शामिल हैं।

अमित जोगी पर कार्रवाई से जोगी समर्थकों में नाराजगी -
अमित जोगी को कांग्रेस से निष्कासित किए जाने पर छत्तीसगढ़ राज्य के जोगी समर्थक विधायक श्री राम दयाल उइके, चुन्नीलाल साहू, अमरजीत सिंह, बृहस्पति सिंह, दिलीप लहरिया पूर्व विधायक, जिला पंचायत अध्यक्ष , महापौर एवं समस्त जोगी समर्थक बैठक में उपस्थित होकर अजीत जोगी के समर्थन में नारे लगाए और निर्णय पर सवालिया निशान लगाते रहें। समस्त विधायकों ने अमित जोगी को कांग्रेस से निष्कासित किए जाने पर काफी नाराजगी जताते हुए जमकर नारेबाजी की। जोगी बंगलें रायपुर में चल रही बैठक में अमित व अजीत जोगी, वहीं बैठक को संबोधित करते राजनादगांव लोकसभा युवा कांग्रेस के अध्यक्ष मेहुल मारु, तथा कथित टेप कांड में अमित के खिलाफ हुई एकपक्षीय निष्कासन की कार्यवाही का विरोध दर्ज कराने सोमवार को दिल्ली हाईकमान से मिलने जाना तय किया गया है। जोगी बगलें में चल रही बैठक में 7 विधायकों सहित 8 पूर्व विधायक एवं प्रदेश भर से जोगी समर्थक कार्यकर्ता उपस्थित हुए। विधायक एवं पार्टी कार्यकर्ता सोमवार को दिल्ली जाकर कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी से इस विषय पर चर्चा करेंगे। चर्चा पर कोई नतीजा न निकलने पर विशाल आंदोलन करेंगे। अजीत जोगी ने कहा कि कांग्रेस किसी की बपौती नहीं है और बिना किसी दूसरे पक्ष की बात को सुने एकतरफा निर्णय किया गया है। कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष से मिलकर वह अपनी बातें रखेंगे। उसके बाद हाईकमान निर्णय करेगा।

वहीं कुछ अन्य लोगों ने यह भी कहा कि अजीत जोगी को अगर पार्टी से निकाला गया तो अजीत जोगी नई पार्टी का गठन करके छत्तीसगढ़ की राजनीति में बवंडर मचा देंगे क्योंकि अगर अजीत जोगी नई पार्टी का गठन करेंगे तो बड़ी संख्या में कांग्रेस पार्टी से निकल कर जोगी गठित नई पार्टी में शामिल हो जाएंगे और जोगी तोड़ मरोड़ करने में माहिर है इसलिए भाजपा के भी कई नेताओं को जोगी अवश्य तोड़ कर अपने साथ कर लेंगे। सभी की निगाहें अब राष्ट्रीय अध्यक्ष व हाईकमान के फैसले पर टिकी हुई है क्योंकि हाईकमान के निर्णय पश्चात काफी कुछ स्पष्ट होगा।

Special News

Health News

Advertisement


Created By :- KT Vision