Latest News

शुक्रवार, 4 सितंबर 2015

डूबे सीरियाई बच्चे आयलान की तस्वीरों के बाद आए नए शरणार्थी प्रस्ताव

ब्रसेल्स 04 सितंबर 2015 (IMNB). तुर्की जलक्षेत्र में डूबे सीरियाई बच्चे की भयावह तस्वीरों से स्तब्ध यूरोपीय नेता प्रवासियों के गहराते संकट से निपटने के लिए 28 सदस्यीय ब्लॉक में व्याप्त गहरे मतभेदों के बावजूद नए प्रस्ताव लेकर आए हैं। मृत अवस्था में तट पर पड़े तीन वर्षीय आयलान कुर्दी की तस्वीरों ने शरणार्थी संकट की भयावह झलक दिखाकर लोगों के दिलों को दहला दिया।

 यह बच्चा अपने परिवार के साथ नौका में सवार होकर यूनान जा रहा था और नौका बीच में ही डूब गई थी। दूसरे विश्वयुद्ध के बाद से यह अब तक का सबसे भीषण शरणार्थी संकट है। एक ओर जहां इस स्थिति से निपटने को लेकर यूरोप में तनाव बढ़ रहा है, वहीं फ्रांस और जर्मनी ने कहा है कि वे इस बात पर सहमत हैं कि यूरोपीय संघ को सदस्य देशों द्वारा तय बाध्यकारी संख्या के तहत लोगों प्रवेश देने के नियम लागू करने चाहिए। जून में ऐसा कोई समझौता हो नहीं पाया था। 

जर्मन चांसलर एंजेला मार्केल ने स्विस राजधानी की यात्रा के दौरान संवाददाताओं को बताया, ‘हम इस पर सहमत हैं। हमें बोझ को बांटने के लिए यूरोपीय संघ के भीतर बाध्यकारी हिस्सेदारी तय करने की जरूरत है। यह एकजुटता का सिद्धांत है।’ एक यूरोपीय सूत्र ने एएफपी को बताया कि यूरोपीय आयोग के अध्यक्ष जीन क्लॉड जंकर अगले सप्ताह कम से कम 1.2 लाख और शरणार्थियों को नई जगह आवंटित करने की योजना लेकर आएंगे ताकि यूरोपीय संघ के देशों यूनान, इटली और हंगरी का बोझ कम किया जा सके। यूरोपीय संघ के अध्यक्ष डोनाल्ड टस्क ने भी सदस्य देशों से अपील की कि वे कम से कम एक लाख शरणार्थियों के पुनर्वास में साझेदारी करें। यह संख्या 32 हजार शरणार्थियों के मौजूदा समझौते में वर्णित संख्या से कहीं ज्यादा है।

Advertisement

Political News

Crime News

Kanpur News


Created By :- KT Vision