Latest News

शनिवार, 4 जुलाई 2015

अगले हफ्ते रूस में नवाज शरीफ से हो सकती है पीएम मोदी की मीटिंग

नई दिल्ली 04 जुलाई 2015 । एक तरफ जहां अमेरिका और दूसरी वेस्टर्न कंट्रीज भारत-पाकिस्तान के रिश्तों में सुधार की आस लगाए बैठी हैं, तो नई दल्ली और इस्लामाबाद भी कदम आगे बढ़ा रहे हैं। खबर है कि अगले हफ्ते रूस में होने वाली शंघाई कॉर्पोरेशन ऑर्गनाइजेशन (SCO) समिट में पीएम मोदी और पाकिस्तानी पीएम नवाज शरीफ की बातचीत हो सकती है। दोनों देशों के रुख से तो यही अंदाजा लगाया जा रहा है। बीते वक्त में आए कुछ बयानों से यह द्विपक्षीय रिश्तों पर असर पड़ने की आशंका थी, लेकिन अब ऐसा लग रहा है दोनों देशों के पीएम मुलाकात कर सकते हैं।
इसके पहले, 2014 में दोनों देशों के अधिकारियों की मुलाकात हुई थी। पिछले साल नवंबर में काठमांडू में आयोजित की हुई सार्क समिट के दौरान मोदी और शरीफ ने सिर्फ हाथ ही मिलाया था। हालांकि, उसके बाद दोनों प्रधानमंत्री तीन बार फोन पर बात कर चुके हैं। यह भी उतना ही सच है कि तीनों बार पहले पीएम मोदी ने ही की। पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता काजी खलीलुल्ला ने बताया, 'अभी तक दोनों तरफ से मीटिंग को लेकर कोई बात नहीं हुई है। हालांकि, ऐसी समिट्स में दो देशों के राष्ट्राध्यक्षों और सरकारों की मीटिंग आम बात होती है।' इस दौरान, भारत सरकार के सूत्रों ने न तो इस मीटिंग की पुष्टि की और न ही इसकी संभावना से इनकार किया। इससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि मोदी और शरीफ की बातचीत संभव है। एक सूत्र ने यह जरूर बताया कि रूस के उफा शहर में होने वाली ऐसी किसी भी मुलाकात को औपचारिक बातचीत के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए। बता दें कि यह कयास इसलिए लगाई जा रही है क्योंकि अमेरिका ने इच्छा जाहिर की है कि दोनों मुल्कों के बीच टेंशन को खत्म हो जाए। यह भी कहा जा रहा है कि चीन और रूस भी दोनों देशों के बीच बेहतर रिश्ते चाहते हैं। माना जा रहा है कि भारत और पाकिस्तान को एससीओ का सदस्य बना दिया जाएगा। अभी दोनों देश ऑब्जर्वर की भूमिका में हैं। गौरतलब है कि पिछले काफी वक्त से दोनों देशों के बीच बयानबाजी जारी है। पीएम मोदी ने ढाका में पाकिस्तान को लेकर आलोचना की थी। हालांकि, मोदी ने रमजान का महीना शुरू होने पर शरीफ को फोन पर शुभकामना दी थी। पिछले दिनों पाकिस्तानी सरकार के सूत्रों ने कहा था कि रूस में शरीफ और मोदी के बीच मीटिंग के लिए भारत को ही पहल करनी होगी, क्योंकि पाकिस्तान में ऐंटी इंडिया सेंटिमेंट की वजह से शरीफ के हाथ बंधे हुए हैं।

(IMNB)

Special News

Health News

Advertisement


Created By :- KT Vision