Latest News

शुक्रवार, 24 अप्रैल 2015

संसद में पीएम मोदी के तेवर नरम

नई दिल्ली 24 अप्रैल 2015. राजधानी में रैली के दौरान एक किसान की मौत होने के एक दिन बाद विपक्ष ने भूमि अधिग्रहण बिल में प्रस्तावित बदलावों को लेकर संसद में मोदी सरकार पर चौतरफा हमले किए। इसे देखते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने रणनीतिक रूप से नरम तेवर अपना लिया। पीएम ने मौत की घटना और किसानों की हालत पर दुख जताया। साथ ही, अस्वाभाविक रूप से बैकफुट पर जाते हुए आत्मनिरीक्षण करने की बात भी की। मोदी ने कहा, 'किसान की जिंदगी, आदमी की जिंदगी से बड़ा कुछ भी नहीं है।
उन्‍होेंने कहा कि यह समस्या पुरानी है, गहरी है। हम सभी को सोचना होगा कि कहां चूक हुई। कहां हमने गलत रास्ते पकड़े। पिछले वर्षों में और पिछले 10 महीनों में क्या कमियां रह गईं। यह हम सबकी सामूहिक जिम्मेदारी है।' किसानों का मुद्दा गरमाने के साथ सरकार ने जहां उनके साथ एकजुटता दिखाने की कोशिश की, वहीं दिल्ली में मौत से पैदा हुए गुस्से के निशाने पर आम आदमी पार्टी को रखने का प्रयास भी किया। मोदी और गृह मंत्री राजनाथ सिंह लैंड बिल में प्रस्तावित बदलावों और किसानों की खुदकुशी की घटनाओं को अलग-अलग रखने की कोशिश की, जबकि विपक्ष ने दोनों मुद्दों को जोड़ते हुए लैंड बिल में बदलावों को रद्द करने पर जोर दिया। मोदी ने कहा, 'सरकार सभी अच्छे सुझावों को स्वीकार करने को तैयार है। मैं खुली सोच रखता हूं। आप अपने सुझाव दें। हम समाधान देने की कोशिश करेंगे। हमें दुख की इस घड़ी में और भविष्य में भी किसानों के साथ खड़े रहना है।' संसद में बहस के अंत में हस्तक्षेप करते हुए पीएम ने विपक्ष पर हमले करने की आदत से परहेज किया।

(IMNB)

Special News

Health News

International


Created By :- KT Vision