Latest News

शनिवार, 14 फ़रवरी 2015

तीस्ता के केस में मोदी के सूट के जिक्र पर सुप्रीम कोर्ट नाराज

नई दिल्ली. गुजरात दंगा पीड़ितों के लिए जुटाए गए चंदे के गबन की आरोपी तीस्ता सीतलवाड़ और उनके पति जावेद आनंद की अग्रिम जमानत की याचिका पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम वाले सूट का व्यंग्यात्मक लहजे में जिक्र किया गया। सुप्रीम कोर्ट ने इस पर नाराजगी जताते हुए वकील से कहा कि ऐसे बयान यहां न दें।
हैदराबाद हाउस में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा से मीटिंग के दौरान मोदी द्वारा पहने गए सूट की कीमत के बारे में आधिकारिक जानकारी अभी तक सामने नहीं आई है, लेकिन मीडिया के एक तबके में इसकी कीमत 10 लाख रुपये बताई गई थी। जस्टिस एसजे मुखोपाध्याय और जस्टिस एनवी रमना की बेंच ने शुक्रवार को सुनवाई के दौरान सीतलवाड़ के वकील और पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल से कई सवाल किए। कोर्ट ने कहा,'एफआईआर के मुताबिक, आपने धर्म और दंगा पीड़ितों के नाम पर पैसे जमा किए और उनका इस्तेमाल निजी कामों के लिए किया। यह गंभीर आरोप है, क्या ऐसे मामले में अग्रिम जमानत दी जाती है? अदालत के समक्ष समर्पण कर नियमित जमानत क्यों नहीं ले लेते हैं?' इस पर कपिल सिब्बल ने अपने मुवक्किलों का बचाव करते हुए कहा कि दंपती के खिलाफ मामला राजनीति से प्रेरित है और बीजेपी के शासन वाली गुजरात सरकार दंगा पीड़ितों की लड़ाई लड़ने की वजह से दोनों को प्रताड़ित कर रही है। उन्होंने कहा कि इसमें हिरासत में लेकर पूछताछ करने की जरूरत नहीं है। इस पर जस्टिस मुखोपाध्याय ने कहा कि वह यहां राजनीतिक बयान न दें। बाद में कोर्ट ने 19 फरवरी तक दोनों को अंतरिम राहत दे दी। कोर्ट ने साथ ही स्पष्ट किया कि इस मामले में एफआईआर में लगाए गए आरोपों के मुताबिक ही विचार किया जाएगा। इस सुनवाई के दौरान तीस्ता सीतलवाड़ का समर्थन कर रहे कई नामी वकील भी दर्शक दीर्घा में बैठे थे, जिनमें पूर्व सलिसिटर जनरल टी आर अंध्यार्जुन, पूर्व अतिरिक्त सलिसिटर जनरल इंदिरा जयसिंह, प्रशांत भूषण, कामिनी जयसवाल और हुज़ेफा अहमदी भी शामिल थे। ये लोग बहस के दौरान तीस्ता सीतलवाड़ के वकील कपिल सिब्बल और अपर्णा भट्ट की मदद कर रहे थे। बहस के दौरान गुजरात सरकार के वकील अतिरिक्त सलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने पुलिस की जांच रिपोर्ट पढ़ते हुए कहा, 'दो एनजीओ सबरंग ट्रस्ट और सिजीन्स फोर जस्टिस ऐंड पीस के अकाउंट्स में काफी पैसे दान किए गए, लेकिन ये बाद में सीतलवाड़ और उनके पति जावेद आनंद के खातों में ट्रांसफर कर लिए गए।' जब मेहता ने कहा कि दंगा पीड़ितों की भलाई के लिए मिले पैसे का इस्तेमाल सीतलवाड़ और उनके पति ने ब्रैंडेड कपड़े और डिजायनर जूतों का बिल चुकाने के लिए किया, इस पर इंदिरा जयसिंह ने कहा, 'तो क्या हुआ, प्रधानमंत्री 10 लाख के ब्रैंडेड सूट पहनते हैं। इस कोर्ट में क्या हो रहा है? तिहरे हत्याकांड में शामिल लोगों को भी बेल मिल जाता है।' उनकी इस टिप्पणी पर बेंच ने नाराजगी जताते हुए कहा, 'हम इस मामले का राजनीतिकरण नहीं होने देंगे। सिर्फ आरोपी के वकील ही कोर्ट में बहस कर सकते हैं।

(IMNB)

Special News

Health News

Important News

International


Created By :- KT Vision